सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जीवन उत्सव

क्यो इंतजार करते हम खुशियों का
क्यो तकते राह उत्सवों की
क्यो साल भर बैठ 
इंतजार करते जन्मदिन का
क्यो नहीं मनाते हम हर एक दिन को
क्यो नहीं सुबह मनाते
क्यो शामें उदास सी गुजार देते
क्यो नहीं रात के अंधेरों को हम 
रोशनाई से भरते
कभी अलसुबह उठकर सुबह का उत्सव मनाना
देखना कि कैसे 
आसमान सज उठता है 
चहकने लगते है पक्षी
खिल उठता है डाल का हर पत्ता
अगुवाई होती है सुरज की 
वंदन होता है उसके प्रखर तेज का
तुम उस तेज को मनाना सीखो
कभी शाम भी मनाओ
ढ़लते सुरज को देखो 
उसके अदब को देखो
शाम-ए-जश्न के लिये
खुद विदा कह जाता है
गोधूलि की धूल को देखो
घर लौटते पंछियों को देखो
ऊपर आसमान में 
विलीन होती सिंदुरी धारियों को देखो
आरती के समय ह्रदय में उठते कंपन को देखो
देखो .....हर रोज शाम यूँ ही सजती है
अब....रात के अंधेरों को मनाओ
ये रातें तुम्हारे लिये ख्वाब लेकर आती है
इन्हे परेशान होकर मत जिओ
सुकून से रातें रोशन करो
बोलते झिंगुरों के बीच तुम
जरा चाँद से बाते करो
उसकी कलाओं को निहारो 
सोचो जरा.....
सदियों से ये चाँद हर रात को उत्सव की तरह मनाता है
तुम भी उत्सव मनाना सीखो
कभी समंदर की आती जाती लहर को देखो
कभी झरनों के जुनून को देखो
बारिश की पहली बुंद को देखो
जो तपती धरती को तृप्त करने आती है
बरखा की इन बुंदों का नृत्य उत्सव ही तो है
तुम भी मनाओ हर दिन 
जीवन का उत्सव

टिप्पणियाँ

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (27-08-2022) को  "सभ्यता पर ज़ुल्म ढाती है सुरा"   (चर्चा अंक-4534)  पर भी होगी।
    --
    कृपया कुछ लिंकों का अवलोकन करें और सकारात्मक टिप्पणी भी दें।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया आपका....मैं बिल्कुल उपस्थित रहूँगी

      हटाएं
  2. वाह..क्या बात है। सुंदर संदेश देता सृजन। इसी तरह जीना चाहिए। बहुत खूब।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पिता और चिनार

पिता चिनार के पेड़ की तरह होते है, विशाल....निर्भीक....अडिग समय के साथ ढलते हैं , बदलते हैं , गिरते हैं  पुनः उठ उठकर जीना सिखाते हैं , न जाने, ख़ुद कितने पतझड़ देखते हैं फिर भी बसंत गोद में गिरा जाते हैं, बताते हैं ,कि पतझड़ को आना होता है सब पत्तों को गिर जाना होता है, सूखा पत्ता गिरेगा ,तभी तो नया पत्ता खिलेगा, समय की गति को तुम मान देना, लेकिन जब बसंत आये  तो उसमे भी मत रम जाना क्योकि बसंत भी हमेशा न रहेगा बस यूँ ही  पतझड़ और बसंत को जीते हुए, हम सब को सीख देते हुए अडिग रहते हैं हमेशा  चिनार और पिता

कोविड

वो फरवरी का महीना था....मौसम इश्क़ से सराबोर था । फागुन की मस्ती फि़जाओं में रंगों के साथ घुलने की तैयारी में थी। कोरोना का भय लगभग खत्म सा हो चुका था। सभी अपनों से गले भी मिलने लगे थे। हाँ....मास्क अभी भी चेहरों पर थे पर अपनों की नजदीकियों के साथ।  फरवरी की जाती हुई ठंड दिल में सुकून को पसरने दे रही थी। उसी वक्त घर में एक सदस्य को कोरोना के लक्षण दिखाये दिये, जाँच करवाई और अनुमान सही निकला ...कोविड पॉजिटिव। ताबड़तोड़ घर के सभी सदस्यों ने कोविड टेस्ट करवाया। पाँच लोग पॉजिटिव आये। मैं और शगुन (बेटी) नेगेटिव थे जबकि शगुन के पॉजिटिव आने के पूरे चांसेज थे क्योकि वो उन सभी के लागातार संपर्क में थी । हमारे घर पर हम तीन लोगो में से सिर्फ पति ही पॉजिटिव थे इसलिये उन्हे आइसोलेटे कर दिया और तमाम सावधानियां बरती गयी। वे बहुत तेजी से रिकवर हो रहे थे और लक्षण भी माइल्ड थे ...सो चिंता अधिक नहीं थी। आठ दिन बाद मेरी दोनो आँखे अचानक बहुत तेज दर्द करने लगी। दर्द इतना तीव्र था कि जैसे किसी ने पलकों के आर पार सुई निकाल दी हो । मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। घर वालों ने हिदायत दी कि मोबाइल का इस्तेमाल कम किया जा

कुछ अनसुलझा सा

न जाने कितने रहस्य हैं ब्रह्मांड में? और और न जाने कितने रहस्य हैं मेरे भीतर?? क्या कोई जान पाया या  कोई जान पायेगा???? नहीं .....!! क्योंकि  कुछ पहेलियां अनसुलझी रहती हैं कुछ चौखटें कभी नहीं लांघी जाती कुछ दरवाजे कभी नहीं खुलते कुछ तो भीतर हमेशा दरका सा रहता है- जिसकी मरम्मत नहीं होती, कुछ खिड़कियों से कभी  कोई सूरज नहीं झांकता, कुछ सीलन हमेशा सूखने के इंतजार में रहती है, कुछ दर्द ताउम्र रिसते रहते हैं, कुछ भय हमेशा भयभीत किये रहते हैं, कुछ घाव नासूर बनने को आतुर रहते हैं,  एक ब्लैकहोल, सबको धीरे धीरे निगलता रहता है शायद हम सबके भीतर एक ब्रह्मांड है जिसे कभी  कोई नहीं जान पायेगा लेकिन सुनो, इसी ब्रह्मांड में एक दूधिया आकाशगंगा सैर करती है जो शायद तुम्हारे मन के ब्रह्मांड में भी है #आत्ममुग्धा