शुक्रवार, 13 सितंबर 2013

निर्भया


आँखें मेरी खुशी से है नम
निर्भया के गम
कुछ तो हुए होंगे कम
माना कि तेरी आत्मा
सिसकती है अब भी
तेरी माँ की आँखों से
आंसू बन के
बहती है तु अब भी
लेकिन
माँ की आँखों में
आज तु खुशी बन के
उमड़ी है
तेरे गुनहगारों को मिली है फांसी
अब आगे
नहीं बनेगी कोई निर्भया अभागी........
.............देश की न्यायव्यवस्था और मीडिया दोनो को धन्यवाद,यह संदेश है गुनहगारों के लिये ।

4 टिप्‍पणियां:

  1. नहीं बनेगी कोई निर्भया अभागी.
    संवेदना को जगाती रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  2. काश आगे की कार्यवाही भी इतनी त्वरित गति से हो .. ताकि न्याय का मजान न हो सके ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बस,अब उनकी फांसी का ही इंतजार है.....

      हटाएं