रविवार, 5 जून 2016

चिढ़ते रहो

तुम चिढ़ते हो
मुझसे 
या 
मेरे वजूद से.....नहीं पता
लेकिन
जब भी मैं 
कुछ नया करती हूँ
तुम्हारा अहम
चोट खाता हैं
मैंने महसूस किया हैं
तुम्हारी जलन को
तुम्हारी प्रतिद्वन्दता को
तुम्हारी बेवजह की तर्कशक्ति को
हाँ.....
ये सच हैं कि तुम कहते कुछ नहीं
लेकिन 
घुमा फिरा कर आग ही तो उगलते हो
जानते हो तुम ?
उस आग में 
झुलस जाती हूँ मैं
और फिर...
अपने फंफोलों को सहलाते सहलाते
मैं फिर कुछ रच देती हूँ
और पुन: 
तुम जैसे लोग 
मेरी अच्छी 'क़िस्मत' पर
बधाईयाँ देने पहुँच जाते हैं
और मैं.....
मुस्कुरा देती हूँ.....
उन फंफोलों को देखकर 
जो शायद तुमने नहीं देखे
मैंने सहयोग नहीं माँगा
संदेह नहीं
तुमने कभी दिया भी नहीं 
मैंने हमेशा तुम्हारा हौसला बढ़ाया
लेकिन....
तुमने मुझे कभी सराहा नहीं
और 
यही सराहने की चाहत
मेरे वजूद को ठोस करती गयी
इसलिये.....
मुझे 
मन ही मन 
ना चाहने वालों
शुक्रिया तुम सभी का
क्योकि 
ये तुम्हारी चिढ़ ही हैं
जो रंग ला रही हैं 
#चिढ़ते_रहो 




6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 06 जून 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. यही सिद्धांत रखना चाहिए कि अपना काम करते चलो। कौन क्या सोचता है करता है यह देखते रहो तो फिर देखने के अलावा इंसान कुछ नहीं कर पाता।
    बहुत बढ़िया रचना

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बिल्कुल सही कहा आपने...आपका यहाँ आने के लिये धन्यवाद 🙏🏼

      हटाएं
  3. होता है पुरुष मानसिकता में ऐसे ... पर अपना विश्वास और द्रिड निश्चय जरूरी है आगे बढ़ने को ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद, लेकिन ऐसे लोगों की जमात में पुरुष नहीं महिलायें ज्यादा हैं......मुझे अफ़सोस हैं कि यह सच हैं

      हटाएं