शनिवार, 9 अप्रैल 2016

भ्रम

इन दिनों मन विचलीत सा है
चंचल सा रहने वाला ये मन
ना जाने क्युँ बेचैन सा है
एक तस्वीर सी उभरती है
दिलो दिमाग़ में
जो कई सवाल खड़े करती है
कुछ गफ़लत सी छाई रहती है
कुछ समझ सकूँ 
उससे पहले धुँधला जाती है
वो तस्वीर
असमंजस में हूँ कि
परिस्थितियों का एक सिलसिलेवार क्रम है
या फिर सिर्फ मेरे मन का भ्रम है 
मानती हूँ कि
मेरी छठी इन्द्रिय 
हैं कुछ ज्यादा ही सक्रिय
इसीलिये भ्रम मात्र तो मान नहीं सकती
सच हो नहीं सकता
कश्मकश में है मन
सोच रही हूँ
वक़्त पर सब छोड़ दूँ
समय की आँधी 
धुँधलका हटा देगी
और 
तस्वीर खुद-ब-खुद साफ़ दिख जायेगी
तब तक 
ऐ जिन्दगी ! 
तु और मैं गफ़लत में ही सही
थोड़ा जी लेते है।


2 टिप्‍पणियां:

  1. जिंदगी तो जीना ही पड़ती अहि ... गज्लत में या आनद से आराम से ... पर मन मानता भी नहीं ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शायद इसी का नाम जिन्दगी है...... कभी खुली किताब तो कभी अबूझ पहेली

      हटाएं