शनिवार, 26 अप्रैल 2014

माँ तू याद बहुत आती है

माँ,तू याद बहुत आती है
सब कहते है कि भुल जाऊँ तुझे
और बढ़ूँ आगे
लेकिन तू ही बता,कैसे भुलू ?
दिन रात तेरी ही याद सताती है
माँ,तू याद बहुत आती है।
सब कहते है,बीति ताहि बिसार दे
लेकिन कैसे बिसार दूँ उन पलों को
जिनमें तू समायी है
हर बात तेरी ही बात बताती है
माँ,तू याद बहुत आती है।
मेरी आँखों से तरल बहता है
होंठों से सिसकियाँ छूटती है
हर ओर तेरी सूरत नजर आती है
माँ,तू याद बहुत आती है।
मैं ब्याह के आयी,
तुझे छोड़ के आयी
तेरे बिन जीना भी सीखा
क्योंकि,तेरी बातें,तेरी नसीहतें
सीखा रही थी मुझे जीवन की हक़ीक़तें
तेरी नज़रें मेरी हर चुक को सुधारती थी
लेकिन अब ना तू है ना तेरी नज़रें
तेरा युँ मुझे छोड़ के जाना
ख़ुदा की बात ये बेमानी है
माँ,तू याद बहुत आती है।
जब तू थी
दुनियाँ बड़ी हसीं थी
और मैं उसमें मगन थी
अब तू नहीं
फिर भी हर तरफ तू ही तू है
तेरे बिन ये दुनियाँ भी बेगानी है
माँ,तू याद बहुत आती है।

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी प्रस्तुत कविता दिल के अंतस को प्रभावित कर गयी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी रचना
    छू गई मन को
    इस कविता की कुछ पंक्तियां सुधार कर लिख रही हूँ
    अब तू नहीं
    फिर भी हर तरफ तू ही तू है
    तेरे बिन ये दुनियाँ भी बेगानी है
    माँ,तू याद बहुत आती है।
    हर जगह छोटे उ का प्रयोग किया हा आपने
    यदि इसे इस तरह पढ़ें तो

    अब तुम नहीं
    फिर भी हर तरफ तुम ही तुम हो
    तेरे बिन ये दुनियाँ भी बेगानी है
    माँ,तुम्हारी याद बहुत आती है।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पंक्तियां सुधारने के लिये आभार यशोदाजी..........

      हटाएं
  4. भावपूर्ण .. भुलाना आसान नहीं होता ... और माँ को तो जब तक साँस है भुलाया नहीं जा सकता ...
    मन को छूते भाव ...

    उत्तर देंहटाएं