शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2014

माँ

संदेह के बादलों से
भय की हो रही है बारिश
चू रही है छत
सील रहा है सब कुछ
बन रही है
चिन्ता की रेखायें
मेरे ललाट के आस पास
लेकिन
मन के एक कोने में
दूर कही
सुनहरी धूप खिलने को है
जो हटा देगी घने बादलों को
रोक देगी बरसते पानी को
क्योकि
एक नया इंद्रधनुष बनने को है
फिर भी
ना जाने क्यो
अनजाना सा लग रहा है क़यास
कभी बिखर तो कभी बंध रही है मेरी आस
मन ही नहीं
अब तो
मेरी चौखट भी रहने लगी है उदास
क्योकि
पल पल कर रहा है छलनी मुझे
मेरी माँ को खोने का अहसास

गुरुवार, 20 फ़रवरी 2014

कैंसर

यह तो जानती थी मैं
कि जिन्दगी एक उलझी हुयी पहेली है
अक्सर,अपने ख़ाली वक़्त में
मैं इसे सुलझाया करती थी
लेकिन यह क्रूर और निष्ठुर भी है
नहीं था मुझे ये अनुमान
हर बार यह एक नया रूप लेकर आती है
कभी हँसाती है तो कभी रूलाती है
लेकिन बहुत फ़र्क़ है महसुस करने में
और इसकी कड़वी सच्चाई को स्वीकार करने में
सच कह गये कबीरदास
जाके पैर फटी ना बिवाई वो क्या जाने पीर पराई
अपनी ही बिवाई से आज आँख मेरी भर आयी
जिसने जीवन दिया उसी के जीवन पे आँच है आयी
मिठास के ताने बाने से बुनी थी मेरी जिन्दगी
कि एक भयावह शब्द का फन्दा एेसा उलझा
उधड़ गया मेरा ताना बाना
दे गया एक ऐसा दर्द
जो अब तक था मुझसे अनजाना
हौसलों की धूप में
उम्मीदों की छाँव लिये
चलती जा रही हुँ मैं
कभी देवालयों में तो कभी गूगल की गलियों में
तलाश रही हुँ अमृत पान
ढ़ुंढ़ रही हुँ तुझे
ऐ जिन्दगी
कभी मन्नत के धागों में
कभी माँ अँजनी के लाल में
कभी कृष्ण की मुरली में
तो कभी अपने ही दृढ़ विश्वास में
क्योकि जिस किसी ने भी हिम्मत हारी
तु है उन सब पे भारी
अपने इरादों पे मुझे संशय नहीं
तेरी परीक्षाओं से भी मुझे भय नहीं
जिन्दगी,तु तो मेरे लिये
माथे पे सजा चंदन है
नित नित तेरा वंदन है
मेरी माँ के आँगन
तेरा सदैव अभिनंदन है ।