मंगलवार, 31 दिसंबर 2013

नया साल

जीवन का एक और वर्ष ले रहा है विदा
अब कहना है निराशा को अलविदा
कुछ यादें छलकी सी
कुछ यादें धुमिल सी
कुछ खुशियों भरी ओस की बुंदों सी
कल से बन जायेगी धरोहर
बीते हुए साल की
नये सपनों के संग
शुरुआत होगी नये साल की
कल का सुरज
मिटा देगा कोहरा
आसां हो जायेगी मुश्किल राह की
रात गयी सो बात गयी
जगी है ललक अब कुछ पाने की
हम बढ़े,सब बढ़े और बड़ी हो सोच सबकी
ना कुछ तेरा ना मेरा
ये जीवन तो है नियामत ख़ुदा की
बस....
खुश रहे सब
चाह बढ़ जाये जीने की

2 टिप्‍पणियां:

  1. नया वर्ष २०१४ मंगलमय हो |सुख ,शांति ,स्वास्थ्यकर हो |कल्याणकारी हो |

    उत्तर देंहटाएं